Uppsc: 483 Candidates Made Mistake In Direct Recruitment Application – यूपीपीएससी : सीधी भर्ती के आवेदन में 483 अभ्यर्थियों ने की गलती

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (यूपीपीएससी) की ओर से सीधी भर्ती के लिए मांगे गए आवेदनों में 483 अभ्यर्थियों ने गलती कर दी है। आयोग ने ऐसे अभ्यर्थियों को राहत प्रदान करते हुए आवेदन में संशोधन के लिए एक अन्य अवसर प्रदान किया है। ऐसे अभ्यर्थी 15 जुलाई तक अपने ऑनलाइन आवेदन में हुई त्रुटियों को सुधार सकते हैं। 

आयोग ने चार जून को सीधी भर्ती का विज्ञापन जारी किया था और उसी दिन से ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया भी शुरू हो गई थी। सीधी भर्ती के लिए ऑनलाइन आवेदन शुल्क बैंक में जमा करने की अंतिम तिथि एक जुलाई और ऑनलाइन आवेदन सब्मिट करने की अंतिम तिथि पांच जुलाई निर्धारित की गई थी। आयोग ने विभिन्न विभागों में 130 पदों पर भर्ती के लिए विज्ञापन जारी किया गया था। इनमें चिकित्सा शिक्षा विभाग (एलोपैथी) में विभिन्न विशिष्टता वाले असिस्टेंट प्रोफेसर के सर्वाधिक 102 पद और बाकी 28 पद अन्य विभागों के हैं। चिकित्सा शिक्षा विभाग में सर्वाधिक 48 पद बाल रोग विशेषज्ञों के हैं।

इन पदों पर भर्ती के लिए आयोग को हजारों की संख्या में आवेदन मिले हैं, जिनमें से 483 अभ्यर्थियों के आवेदन त्रुटिपूर्ण पाए गए है। इनमें किसी अभ्यर्थी की फोटो इतनी छोटी है कि प्रिंटिंग के लायक नहीं है। कई अभ्यर्थियों की फोटो बिना हस्ताक्षर के अपलोड कर दी गई हैं। तमाम अभ्यर्थियों की फोटो निर्धारित आकार में नहीं हैं तो कई अभ्यर्थियों की फोटो सही नहीं हैं। आयोग के उपसचिव पुष्कर श्रीवास्तव के अनुसार अभ्यर्थियों को अपने सही फोटो एवं हस्ताक्षर अपलोड करने के लिए एक अन्य अवसर प्रदान किया गया है। अभ्यर्थी 15 जुलाई तक यह प्रक्रिया पूरी कर लें। इसके बाद कोई अवसर नहीं दिया जाएगा और न ही किसी प्रत्यावेदन पर विचार किया जाएगा।

प्रवक्ता के पांच पदों पर हुआ चयन

उत्तर प्रदेश विशेष अधीनस्थ शिक्षा सेवा आयोग (पुरुष संवर्ग) के तहत राजकीय इंटर कॉलेजों में तीन विषयों में प्रवक्ता के पांच पदों पर अभ्यर्थियों को अंतिम रूप से चयनित घोषित किया गया है। प्रवक्ता कृषि के दो पदों पर शिव कुमार गुप्ता एवं रवि प्रताप सिंह का चयन किया गया है। प्रवक्ता समाजशास्त्र के छह पदों के मुकाबले तीन पदों पर विजय प्रताप वर्मा, इंदु त्यागी एवं रत्नेश कुमार पटेल का चयन हुआ है। अभ्यर्थी उपलब्ध न होने के कारण तीन पद रिक्त रह गए, जिनमें एक पद ओबीसी एवं दो पद एससी श्रेणी के अभ्यर्थियों के लिए आरक्षित थे। प्रवक्ता शिक्षाशास्त्र के तीन पदों के मुकाबले एक पद पर सूर्यकांत कुशवाहा का चयन हुआ है। ओबीसी एवं एससी श्रेणी के लिए आरक्षित एक-एक पद रिक्त रह गए। रिक्त पदों पर भर्ती के लिए पुनर्विज्ञापन की संस्तुति की गई है।

यूनानी चिकित्साधिकारी परीक्षा के प्रवेश पत्र जारी

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने यूनानी चिकित्साधिकारी स्क्रीनिंग परीक्षा-2018 के अभ्यर्थियों के प्रवेश पत्र जारी कर दिए हैं। अभ्यर्थी आयोग की वेबसाइट से अपने प्रवेश पत्र डाउनलोड कर सकते हैं। यूनानी चिकित्साधिकार के 25 पदों पर भर्ती के लिए स्क्रीनिंग परीक्षा 25 जुलाई को सुबह 11 से अपराह्न एक बजे तक लखनऊ में आयोजित की जाएगी। इन पदों पर भर्ती के लिए 2053 अभ्यर्थियों ने आवेदन किए हैं।

विस्तार

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (यूपीपीएससी) की ओर से सीधी भर्ती के लिए मांगे गए आवेदनों में 483 अभ्यर्थियों ने गलती कर दी है। आयोग ने ऐसे अभ्यर्थियों को राहत प्रदान करते हुए आवेदन में संशोधन के लिए एक अन्य अवसर प्रदान किया है। ऐसे अभ्यर्थी 15 जुलाई तक अपने ऑनलाइन आवेदन में हुई त्रुटियों को सुधार सकते हैं। 

आयोग ने चार जून को सीधी भर्ती का विज्ञापन जारी किया था और उसी दिन से ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया भी शुरू हो गई थी। सीधी भर्ती के लिए ऑनलाइन आवेदन शुल्क बैंक में जमा करने की अंतिम तिथि एक जुलाई और ऑनलाइन आवेदन सब्मिट करने की अंतिम तिथि पांच जुलाई निर्धारित की गई थी। आयोग ने विभिन्न विभागों में 130 पदों पर भर्ती के लिए विज्ञापन जारी किया गया था। इनमें चिकित्सा शिक्षा विभाग (एलोपैथी) में विभिन्न विशिष्टता वाले असिस्टेंट प्रोफेसर के सर्वाधिक 102 पद और बाकी 28 पद अन्य विभागों के हैं। चिकित्सा शिक्षा विभाग में सर्वाधिक 48 पद बाल रोग विशेषज्ञों के हैं।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.