Panic In Sonbhadra Due To Tiger Sighting In Madhya Pradesh Forest Department Team Monitoring With Drone – एमपी और यूपी में दहशत: भरसेड़ा जंगल में टाइगर जोड़े की दस्तक से ग्रामीणों में हड़कंप, ड्रोन से निगरानी में जुटी टीम

अमर उजाला नेटवर्क, सोनभद्र
Published by: हरि User
Updated Wed, 07 Jul 2021 01:09 AM IST

सार

बाघ और बाघिन की गतिविधि पर नजर रखने के लिए ड्रोन कैमरे की भी मदद ली जा रही है। वन विभाग की टीम निगरानी में लगा दी गई है। 
 

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जनपद से सटे मध्यप्रदेश के सिंगरौली में नर-मादा  बाघ दिखाई देने से ग्रामीण डरे हैं। बाघ दिखाई देने से मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश के आसपास के ग्रामीण दहशत में हैं। सिंगरौली में स्थित वन परिक्षेत्र पश्चिम सरई के भरसेड़ा जंगल में नर-मादा बाघ के देखे जाने से आसपास के गांवों में हड़कंप मच गया है। इसकी खबर मिलते ही वन परिक्षेत्राधिकारी राम अवतार साहू टीम के साथ पहुंचकर निगरानी में लग गए हैं। उनकी गतिविधि पर नजर रखने के लिए ड्रोन कैमरे की भी मदद ली जा रही है।

पिछले माह सरई इलाके में बाघ के देखे जाने की चर्चा थी। दो दिन तक निगरानी के बाद भी उनकी कोई लोकेशन नहीं मिली थी। फिर भी वन अमला नजर बनाए हुए था। इसी बीच मंगलवार को सरई रेंज पश्चिमी के वन बीट झारा अंतर्गत भरसेड़ा गांव में टाइगर के जोड़े को ग्रामीणों ने देखा। नर-मादा जोड़े के एक साथ होने से ग्रामीण सहमे हुए हैं। वन विभाग के सूत्रों के मुताबिक नर-मादा टाइगर सीधी जिले के संजय टाईगर रिर्जव दुबरी के जंगल से भंवरखोह होते हुए सिंगरौली जिले के सीमावर्ती भरसेड़ा जंगल में आ सकते हैं। उनकी चहलकदमी पर नजर रखी जा रही है। हालांकि अभी तक किसी प्रकार की जनहानि नहीं हुई है।

पश्चिम सरई के वन परिक्षेत्राधिकारी रामावतार साहू का कहना है कि भरसेड़ा जंगल में नर-मादा बाघ देखे गए हैं। इन पर लगातार नजर रखी जा रही है। संजय टाइगर रिजर्व दुबरी के भंवरखोह जंगल से होते हुए यहां पहुंचे हैं। 

विस्तार

उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जनपद से सटे मध्यप्रदेश के सिंगरौली में नर-मादा  बाघ दिखाई देने से ग्रामीण डरे हैं। बाघ दिखाई देने से मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश के आसपास के ग्रामीण दहशत में हैं। सिंगरौली में स्थित वन परिक्षेत्र पश्चिम सरई के भरसेड़ा जंगल में नर-मादा बाघ के देखे जाने से आसपास के गांवों में हड़कंप मच गया है। इसकी खबर मिलते ही वन परिक्षेत्राधिकारी राम अवतार साहू टीम के साथ पहुंचकर निगरानी में लग गए हैं। उनकी गतिविधि पर नजर रखने के लिए ड्रोन कैमरे की भी मदद ली जा रही है।

पिछले माह सरई इलाके में बाघ के देखे जाने की चर्चा थी। दो दिन तक निगरानी के बाद भी उनकी कोई लोकेशन नहीं मिली थी। फिर भी वन अमला नजर बनाए हुए था। इसी बीच मंगलवार को सरई रेंज पश्चिमी के वन बीट झारा अंतर्गत भरसेड़ा गांव में टाइगर के जोड़े को ग्रामीणों ने देखा। नर-मादा जोड़े के एक साथ होने से ग्रामीण सहमे हुए हैं। वन विभाग के सूत्रों के मुताबिक नर-मादा टाइगर सीधी जिले के संजय टाईगर रिर्जव दुबरी के जंगल से भंवरखोह होते हुए सिंगरौली जिले के सीमावर्ती भरसेड़ा जंगल में आ सकते हैं। उनकी चहलकदमी पर नजर रखी जा रही है। हालांकि अभी तक किसी प्रकार की जनहानि नहीं हुई है।

पश्चिम सरई के वन परिक्षेत्राधिकारी रामावतार साहू का कहना है कि भरसेड़ा जंगल में नर-मादा बाघ देखे गए हैं। इन पर लगातार नजर रखी जा रही है। संजय टाइगर रिजर्व दुबरी के भंवरखोह जंगल से होते हुए यहां पहुंचे हैं। 

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.