MADHWAPUR : कमर भर पानी मे तैरकर बाहर निकलने की विवशता

मधवापुर : मानसून के दस्तक से ही जनप्रतिनिधि व प्रशासनिक अधिकारियों के दावों की पोल खुलती नजर आ रही है। बिहार सरकार ने पंचायती राज व्यवस्था के तहत सीएम सात निश्चय योजना अंतर्गत गली नली पक्कीकरण योजना के तहत तमाम दावों की पोल उस समय खुली, जब एक गांव के लोग कमर भर पानी मे तैर कर अपने दैनिक काम करने जाते दिखे।

दरअसल मामला मधवापुर प्रखंड के बासुकी बिहारी दक्षिणी पंचायत अंतर्गत जानकीनगर गांव का है। जहां वार्ड 3 में दर्जनों परिवारों का घर है। लेकिन सड़क नही रहने के कारण कमर भर पानी से होकर मुख्य सड़क तक गुजरने को विवश है। खासकर बीमारी होने पर लोगों को कंधे पर डालकर मुख्य सड़क तक पहुंच पाते है।

ग्रामीण श्रवण महतो, बलदेव महतो, रामबालक कुमार, संजय दास, शिवशरण दास, अनिल दास, सौखी दास, सहदेव दास, रत्न दास, विक्की दास, बैजनाथ महतो, गोपाल दास, सुरेश महतो, विंदेश्वर महतो, लाल किशोर महतो, नीतीश कुमार, बौहरी देवी, उतरी देवी, लाखिया देवी, सुनीता देवी ने कहा पोखरा के किनारे हमलोगों का घर है। जहां से हमलोग आना जाना करते है, लेकिन बारिश के समय पानी होने के कारण कमर भर पानी से आने जाने की विवशता है। खासकर बीमारी व बच्चों को स्कूल अथवा ट्यूशन जाने में भारी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।

ADVERTISEMENT

सड़क बनाने को लेकर हमलोगो ने स्थानीय मुखिया को कई बार कहा लेकिन मुखिया वोट की राजनीति के चक्कर मे हमलोगों को रास्ता नही उपलब्ध करवा रहे है। जिससे भारी परेशानी बनी हुई है। सड़क निर्माण को लेकर हमलोगों ने विधायक व सांसद तक से आग्रह कर चुके है, लेकिन किसी ने भी हमारी समस्याओं पर ध्यान देना उचित नही समझा।

ADVERTISEMENT

हालांकि मुखिया अमरेंद्र कुमार उर्फ राजू राय ने बताया कि लोगों ने सड़क के जमीन को अतिक्रमण करके घर बना लिया है। बांकी का जमीन निजी है। जिसके कारण सड़क का निर्माण नही कराया जा सका। अगर निजी जमीन वाले जमीन देते है तो निश्चित रूप से सड़क बनाने का पहल किया जाएगा।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.