High Court Stays Defamation Case Against Bhu Professor – बीएचयू के प्रोफेसर के खिलाफ मानहानि केस पर हाईकोर्ट ने लगाई रोक

{“_id”:”60e336299dbabf5fab350810″,”slug”:”high-court-stays-defamation-case-against-bhu-professor”,”type”:”story”,”status”:”publish”,”title_hn”:”u092cu0940u090fu091au092fu0942 u0915u0947 u092au094du0930u094bu092bu0947u0938u0930 u0915u0947 u0916u093fu0932u093eu092b u092eu093eu0928u0939u093eu0928u093f u0915u0947u0938 u092au0930 u0939u093eu0908u0915u094bu0930u094du091f u0928u0947 u0932u0917u093eu0908 u0930u094bu0915″,”category”:{“title”:”City & states”,”title_hn”:”u0936u0939u0930 u0914u0930 u0930u093eu091cu094du092f”,”slug”:”city-and-states”}}

अमर उजाला नेटवर्क, प्रयागराज
Published by: विनोद सिंह
Updated Mon, 05 Jul 2021 10:11 PM IST

सार

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने काशी हिंदू विश्वविद्यालय, वाराणसी के प्रोफेसर डॉ. किशोर पटवर्धन के खिलाफ वाराणसी के न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में चल रहे मानहानि केस की कार्यवाही पर रोक लगा दी है।

बीएचयू

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने काशी हिंदू विश्वविद्यालय, वाराणसी के प्रोफेसर डॉ. किशोर पटवर्धन के खिलाफ वाराणसी के न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में चल रहे मानहानि केस की कार्यवाही पर रोक लगा दी है और विपक्षी डॉ. सुशील कुमार दूबे को नोटिस जारी कर चार हफ्ते में जवाब मांगा है। यह आदेश न्यायमूर्ति अजय भनोट ने डॉ. किशोर पटवर्धन की याचिका पर दिया है।

 

याची के वरिष्ठ अधिवक्ता अनुराग खन्ना का कहना था कि शिकायत व तथ्यों के आधार पर याची के खिलाफ कोई मानहानि का केस नहीं बनता। कार्यवाही विभागीय विवाद को लेकर की गई है। कोर्ट ने मुद्दे को विचारणीय माना और मुकदमे की कार्यवाही पर रोक लगा दी है। संवाद

विस्तार

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने काशी हिंदू विश्वविद्यालय, वाराणसी के प्रोफेसर डॉ. किशोर पटवर्धन के खिलाफ वाराणसी के न्यायिक मजिस्ट्रेट की अदालत में चल रहे मानहानि केस की कार्यवाही पर रोक लगा दी है और विपक्षी डॉ. सुशील कुमार दूबे को नोटिस जारी कर चार हफ्ते में जवाब मांगा है। यह आदेश न्यायमूर्ति अजय भनोट ने डॉ. किशोर पटवर्धन की याचिका पर दिया है।

 

याची के वरिष्ठ अधिवक्ता अनुराग खन्ना का कहना था कि शिकायत व तथ्यों के आधार पर याची के खिलाफ कोई मानहानि का केस नहीं बनता। कार्यवाही विभागीय विवाद को लेकर की गई है। कोर्ट ने मुद्दे को विचारणीय माना और मुकदमे की कार्यवाही पर रोक लगा दी है। संवाद

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.