Fir Will Be Registered Against Suspended Co Navneet Nayak Trapped In Sexual Harassment – यौन उत्पीड़न में फंसे निलंबित सीओ नवनीत नायक पर दर्ज होगी एफआईआर

{“_id”:”60e34e8eb6af2e22512af7c2″,”slug”:”fir-will-be-registered-against-suspended-co-navneet-nayak-trapped-in-sexual-harassment”,”type”:”story”,”status”:”publish”,”title_hn”:”u092fu094cu0928 u0909u0924u094du092au0940u0921u093cu0928 u092eu0947u0902 u092bu0902u0938u0947 u0928u093fu0932u0902u092cu093fu0924 u0938u0940u0913 u0928u0935u0928u0940u0924 u0928u093eu092fu0915 u092au0930 u0926u0930u094du091c u0939u094bu0917u0940 u090fu092bu0906u0908u0906u0930″,”category”:{“title”:”City & states”,”title_hn”:”u0936u0939u0930 u0914u0930 u0930u093eu091cu094du092f”,”slug”:”city-and-states”}}

अमर उजाला नेटवर्क, प्रयागराज
Published by: विनोद सिंह
Updated Mon, 05 Jul 2021 11:55 PM IST

सार

  • शासन के पत्र पर प्रभारी एसपी ने दिया आदेश, तैनाती के दौरान मध्यप्रदेश से मिलने के लिए आती थी महिला 
  • जिले में तैनात एक थानेदार की भी कराई जा सकती है जांच 

pratapgarh news : नवनीत नायक, डिप्टी एसपी।
– फोटो : prayagraj

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

प्रभारी पुलिस अधीक्षक एलआर कुमार ने यौन उत्पीड़न के मामले में निलंबित किए गए पुलिस उपाधीक्षक नवनीत नायक  पर मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया है। इस मामले में जिले में तैनात एक थानेदार की भूमिका की भी जांच हो सकती है। जिले के पट्टी सर्किल में जुलाई 2019 में कार्यभार ग्रहण करने वाले पुलिस उपाधीक्षक नवनीत नायक करीब साढ़े आठ माह तक तैनात रहे। अपने कार्यकाल के दौरान वह अक्सर चर्चाओं में बने रहे। सूत्रों के अनुसार मध्य प्रदेश की रहने वाली एक संस्था में काम करने वाली महिला से सीओ नवनीत नायक की दोस्ती थी। जनपद में तैनाती के दौरान अक्सर महिला शहर के एक होटल में आकर रुकती थी। वहां सीओ भी जाते थे। शादी की बात को लेकर दोनों के बीच अनबन हो गई। तत्कालीन पुलिस अधीक्षक अभिषेक सिंह से भी महिला ने सीओ द्वारा झांसा यौन उत्पीड़न करने की  शिकायत की, मगर कोई कार्रवाई नहीं हुई।

इसके बाद महिला ने शासन से शिकायत की थी। शासन ने पूर्व एसपी से जांच रिपोर्ट तलब की। हालांकि इस बीच सीओ नवनीत नायक का तबादला गैर जनपद के लिए हो गया। बाद  में वह शाहजहांपुर में तैनात हुए। पूर्व एसपी की रिपोर्ट मिलने के बाद शासन ने तीन दिन पहले सीओ नवनीत नायक को सस्पेंड कर दिया था। सोमवार को शासन का पत्र मिलने के बाद पुलिस अधीक्षक एलआर कुमार ने निलंबित सीओ नवनीत नायक के खिलाफ नगर कोतवाली में मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया है। हालांकि अभी नगर कोतवाल के पास प्रभारी एसपी का आदेश नहीं पहुंचा है। पट्टी कोतवाली में भी मुकदमा दर्ज होने की संभावना जताई जा रही है। पुलिस विभाग में इस बात की चर्चा जोरों पर है कि मुकदमा दर्ज होने के बाद जांच की आंच जिले में तैनात एक थानेदार पर भी सकती है। 

पहले भी जिले में तैनात रहे सीओ पर लग चुके हैं यौन उत्पीड़न के आरोप
जिले में पहले भी तैनात रहे सीओ पर यौन उत्पीड़न के आरोप लग चुके हैं। लालगंज व सीओ सिटी के पद पर तैनात पुलिस उपाधीक्षक पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगने के बाद मुकदमा दर्ज हुआ था। लालगंज में तैनात सीओ को तो जेल भी भेजा गया था। जबकि सीओ सिटी के पद पर तैनात रहे सीओ को कानपुर पुलिस ने जेल भेजा था।

विस्तार

प्रभारी पुलिस अधीक्षक एलआर कुमार ने यौन उत्पीड़न के मामले में निलंबित किए गए पुलिस उपाधीक्षक नवनीत नायक  पर मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया है। इस मामले में जिले में तैनात एक थानेदार की भूमिका की भी जांच हो सकती है। जिले के पट्टी सर्किल में जुलाई 2019 में कार्यभार ग्रहण करने वाले पुलिस उपाधीक्षक नवनीत नायक करीब साढ़े आठ माह तक तैनात रहे। अपने कार्यकाल के दौरान वह अक्सर चर्चाओं में बने रहे। सूत्रों के अनुसार मध्य प्रदेश की रहने वाली एक संस्था में काम करने वाली महिला से सीओ नवनीत नायक की दोस्ती थी। जनपद में तैनाती के दौरान अक्सर महिला शहर के एक होटल में आकर रुकती थी। वहां सीओ भी जाते थे। शादी की बात को लेकर दोनों के बीच अनबन हो गई। तत्कालीन पुलिस अधीक्षक अभिषेक सिंह से भी महिला ने सीओ द्वारा झांसा यौन उत्पीड़न करने की  शिकायत की, मगर कोई कार्रवाई नहीं हुई।

इसके बाद महिला ने शासन से शिकायत की थी। शासन ने पूर्व एसपी से जांच रिपोर्ट तलब की। हालांकि इस बीच सीओ नवनीत नायक का तबादला गैर जनपद के लिए हो गया। बाद  में वह शाहजहांपुर में तैनात हुए। पूर्व एसपी की रिपोर्ट मिलने के बाद शासन ने तीन दिन पहले सीओ नवनीत नायक को सस्पेंड कर दिया था। सोमवार को शासन का पत्र मिलने के बाद पुलिस अधीक्षक एलआर कुमार ने निलंबित सीओ नवनीत नायक के खिलाफ नगर कोतवाली में मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया है। हालांकि अभी नगर कोतवाल के पास प्रभारी एसपी का आदेश नहीं पहुंचा है। पट्टी कोतवाली में भी मुकदमा दर्ज होने की संभावना जताई जा रही है। पुलिस विभाग में इस बात की चर्चा जोरों पर है कि मुकदमा दर्ज होने के बाद जांच की आंच जिले में तैनात एक थानेदार पर भी सकती है। 

पहले भी जिले में तैनात रहे सीओ पर लग चुके हैं यौन उत्पीड़न के आरोप

जिले में पहले भी तैनात रहे सीओ पर यौन उत्पीड़न के आरोप लग चुके हैं। लालगंज व सीओ सिटी के पद पर तैनात पुलिस उपाधीक्षक पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगने के बाद मुकदमा दर्ज हुआ था। लालगंज में तैनात सीओ को तो जेल भी भेजा गया था। जबकि सीओ सिटी के पद पर तैनात रहे सीओ को कानपुर पुलिस ने जेल भेजा था।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.