Discussion Of Registration Of Case Against Apo Of Drm Office – डीआरएम ऑफिस के एपीओ के खिलाफ केस दर्ज होने की चर्चा 

अमर उजाला नेटवर्क, प्रयागराज
Published by: विनोद सिंह
Updated Sun, 04 Jul 2021 11:34 PM IST

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

मंडल रेल प्रबंधक ( डीआरएम) कार्यालय में दो रोज पड़े सीबीआई छापे के बाद अब चर्चा इस बात की है कि सीबीआई ने सहायक कार्मिक अधिकारी ( एपीओ) के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। हालांकि डीआरएम ऑफिस के वरिष्ठ अफसरों ने सीबीआई द्वारा दर्ज किए गए मुकदमें पर अनिभज्ञिता जताई है। बताया जा रहा है कि शुक्रवार दो जुलाई को कार्मिक विभाग में पड़े छापे के दौरान सीबीआई को कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज मिले है। उसी आधार पर आरोपी एपीओ के खिलाफ केस दर्ज करवाने की बात सामने आई है। 

दरअसल डीआरएमऑफिस के कार्मिकविभाग में तैनात  एपीओ लवकुशकी आईडी से जुलाई 2019 में 1.45 करोड़ रुपये का ट्रांजेक्शन हुआ, जबकि उसकी आईडी से तब नियमानुसार 45 लाख रुपयेही लोको पॉयलटों की सैलरी केलिए ट्रांजेक्शन होने चाहिए थे। इस मामले ने जब तूल पकड़ा तो इसकी जानकारी सीबीआई तक पहुंची।

इसके बाद सीबीआई यहां जांच के लिए पहुंची। इस पूरे प्रकरण के बाद से एपीओ लवकुश से सभी महत्वपूर्ण काम ले लिए गए। तकरीबन दो माह पूर्व भी सीबीआई की टीम एक बार फिर प्रयागराज पहुंची। यहां एपीओ की घर में हुई तलाशी के दौरान सीबीआई को कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज मिले। डीआरएम प्रयागराज मोहित चंद्रा भी इस प्रकरण पर पहले ही कह चुके हैं कि अगर एपीओ पर लगे आरोप सही पाए जाते हैं तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई जरूर होगी।

विस्तार

मंडल रेल प्रबंधक ( डीआरएम) कार्यालय में दो रोज पड़े सीबीआई छापे के बाद अब चर्चा इस बात की है कि सीबीआई ने सहायक कार्मिक अधिकारी ( एपीओ) के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। हालांकि डीआरएम ऑफिस के वरिष्ठ अफसरों ने सीबीआई द्वारा दर्ज किए गए मुकदमें पर अनिभज्ञिता जताई है। बताया जा रहा है कि शुक्रवार दो जुलाई को कार्मिक विभाग में पड़े छापे के दौरान सीबीआई को कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज मिले है। उसी आधार पर आरोपी एपीओ के खिलाफ केस दर्ज करवाने की बात सामने आई है। 

दरअसल डीआरएमऑफिस के कार्मिकविभाग में तैनात  एपीओ लवकुशकी आईडी से जुलाई 2019 में 1.45 करोड़ रुपये का ट्रांजेक्शन हुआ, जबकि उसकी आईडी से तब नियमानुसार 45 लाख रुपयेही लोको पॉयलटों की सैलरी केलिए ट्रांजेक्शन होने चाहिए थे। इस मामले ने जब तूल पकड़ा तो इसकी जानकारी सीबीआई तक पहुंची।

इसके बाद सीबीआई यहां जांच के लिए पहुंची। इस पूरे प्रकरण के बाद से एपीओ लवकुश से सभी महत्वपूर्ण काम ले लिए गए। तकरीबन दो माह पूर्व भी सीबीआई की टीम एक बार फिर प्रयागराज पहुंची। यहां एपीओ की घर में हुई तलाशी के दौरान सीबीआई को कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेज मिले। डीआरएम प्रयागराज मोहित चंद्रा भी इस प्रकरण पर पहले ही कह चुके हैं कि अगर एपीओ पर लगे आरोप सही पाए जाते हैं तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई जरूर होगी।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.