Allahabad Mp Rita Joshi Can Be Included In Modi Cabinet, May Get This Ministry – मोदी कैबिनेट में शामिल की जा सकती हैं इलाहाबाद की सांसद रीता जोशी, मिल सकता है यह मंत्रालय

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

अगले वर्ष प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए भारतीय जनता पार्टी जाति समीकरण दुरुस्त करने में जुटी हुई है। चर्चा है कि प्रयागराज की सांसद डॉ. रीता बहुगुणा जोशी को प्रधानमंत्री मोदी की कैबिनेट में शामिल किया जा सकता है। तीन दिन पहले केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के बुलावे पर डॉ. रीता जोशी दिल्ली भी पहुंची। वहां कई कैबिनेट मंत्रियों के साथ उनकी मुलाकात हुई। इस मुलाकात के कई सियासी मायने निकाले जा रहे हैं। 

अगले वर्ष ही यूपी में विधानसभा चुनाव होना है। भाजपा इस चुनाव को बेहद गंभीरता से ले रही है। पिछड़े जाति के वोटरों को रिझाने के लिए पार्टी के पास डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के रूप में एक बड़ा चेहरा मौजूद है। लेकिन योगी सरकार पर ब्राह्मणों की उपेक्षा को लग रहे आरोप को देखते हुए पार्टी के अंदरखाने में यही चर्चा है कि प्रयागराज से डॉ. रीता जोशी को भाजपा अब बड़ी जिम्मेदारी देनी जा रही है। पिछले दिनों कांग्रेस छोड़कर आए जितिन प्रसाद और यूपी में पर्यटन मंत्री का पद छोड़कर सांसद बनीं डॉ. रीता बहुगुणा जोशी ब्राह्मण वोटों के लिहाज से काफी अहम माने जा रहे हैं।

ब्राह्मणों को भाजपा अपना परंपरागत वोटर मानती है। इस वजह से वह इन दिनों इस बिरादरी को लुभाने में जुटी है। क्योंकि रीता जोशी सांसद हैं इसलिए मोदी सरकार उन्हें अपनी कैबिनेट में  शामिल कर एक बड़ा संदेश देने की कोशिश कर सकती है। रीता यूपी की एकमात्र ऐसी पहली महिला नेता हैं जो मेयर, विधायक होने के साथ योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री का पदभार संभाल चुकी हैं। वर्ष 2019 में ही वह प्रयागराज से सांसद बनीं। इसके अलावा उनका पॉलिटिकल ब्रैकग्राउंड भी काफी मजबूत है। उनके पिता स्वर्गीय हेमवती नंदन बहुगुणा यूपी में तो भाई विजय बहुगुणा उत्तराखंड में मुख्यमंत्री के पद पर रह चुके हैं। 

संघ के सह सरकार्यवाह से भी रीता की हुई मुलाकात

पिछले माह 29 और 30 जून को दिल्ली दौरे पर गईं प्रयागराज की सांसद डॉ. रीता बहुगुणा जोशी की राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आर.एस.एस) के सह सरकार्यवाह कृष्ण गोपाल से भी मुलाकात हुई। इस दौरान रीता जोशी के पुत्र मयंक जोशी भी उनके साथ रहे। इस मुलाकात को मोदी सरकार के कैबिनेट विस्तार से जोड़कर भी देखा जा रहा है। हालांकि इस बारे में रीता जोशी कहती हैं कि वह संसदीय राजभाषा समिति की दूसरी उप समिति की निरीक्षण बैठक में शिरकत करने के लिए ही दिल्ली गईं थी। वहां अपने संसदीय क्षेत्र के विकास कार्यों को लेकर ही कुछ कैबिनेट मंत्रियों से मुलाकात हुई। इसका कोई दूसरा अर्थ न निकाला जाए। कौन का पद मिलने की है चर्चा अगली स्लाइड में…

शिक्षा राज्य मंत्री या रेल राज्य मंत्री बनाए जाने की चर्चा 

इलाहाबाद विश्वविद्यालय से वीआरएस ले चुकीं सांसद डॉ. रीता बहुगुणा जोशी को केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल के साथ शिक्षा राज्य मंत्री बनाया जा सकता है। पार्टी के अंदर खाने में चर्चा यह भी है कि कोरोना की वजह जान गंवाने वाले रेल राज्यमंत्री सुरेश अंगड़ी के निधन के बाद से यह पद रिक्त चल रहा है। ऐसे में उन्हें रेल राज्य मंत्री का पद भी दिया जा सकता है।

विस्तार

अगले वर्ष प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव को देखते हुए भारतीय जनता पार्टी जाति समीकरण दुरुस्त करने में जुटी हुई है। चर्चा है कि प्रयागराज की सांसद डॉ. रीता बहुगुणा जोशी को प्रधानमंत्री मोदी की कैबिनेट में शामिल किया जा सकता है। तीन दिन पहले केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के बुलावे पर डॉ. रीता जोशी दिल्ली भी पहुंची। वहां कई कैबिनेट मंत्रियों के साथ उनकी मुलाकात हुई। इस मुलाकात के कई सियासी मायने निकाले जा रहे हैं। 

अगले वर्ष ही यूपी में विधानसभा चुनाव होना है। भाजपा इस चुनाव को बेहद गंभीरता से ले रही है। पिछड़े जाति के वोटरों को रिझाने के लिए पार्टी के पास डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के रूप में एक बड़ा चेहरा मौजूद है। लेकिन योगी सरकार पर ब्राह्मणों की उपेक्षा को लग रहे आरोप को देखते हुए पार्टी के अंदरखाने में यही चर्चा है कि प्रयागराज से डॉ. रीता जोशी को भाजपा अब बड़ी जिम्मेदारी देनी जा रही है। पिछले दिनों कांग्रेस छोड़कर आए जितिन प्रसाद और यूपी में पर्यटन मंत्री का पद छोड़कर सांसद बनीं डॉ. रीता बहुगुणा जोशी ब्राह्मण वोटों के लिहाज से काफी अहम माने जा रहे हैं।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.