हरलाखी सीओ में किया सीमा पर अवस्थित नदी का मुआयना

ग्रामीण क्षेत्रों में जलजमाव की समस्या से जूझ रहे हैं लोग, सीओ ने जल्द जलनिकासी का दिया आश्वासन

हरलाखी : प्रखंड क्षेत्र के भारत-नेपाल सीमा पर स्थित जमुनी सह बेलन्योती नदी के जलस्तर में बढ़ने के कारण नेपाल आवागमन के मार्ग पर पानी चढ़ गया है। इससे नेपाल पैदल आवागमन भी अब खतरे से खाली नहीं हैं। बावजूद आवश्यक कार्यों से सीमावर्ती क्षेत्र के लोग जान जोखिम में डालते हुए पानी में तैर कर आवागमन के लिए मजबूर हैं। चुकी दोनों देशों के सीमावर्ती क्षेत्र के लोगों में बेटी-रोटी का संबंध होने के कारण आना-जाना पूरी तरह से बंद नहीं किया जा सकता हैं।

वहीं नेपाल के सीमावर्ती क्षेत्र के लोग अपने दैनिक उपयोगी वस्तु की खरीदारी भारतीय बाजारों से करते हैं। लेकिन इनदिनों रास्ते पर अधिक पानी होने के कारण खतरे का सामना करते हुए आवागमन को मजबूर है। वहीं प्रखंड के उमगांव, विटुहर, फुलहर, परसा, खिरहर, हरसुवार सहित दर्जनों गांव के लोगों को अभी भी जलजमाव की समस्या से काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

इन सभी समस्याओं को देखते हुए हरलाखी सीओ सौरभ कुमार ने भारत- नेपाल सीमा पर अवस्थित जमुनी सह बेलन्योती नदी का मुआयना किया। सर्वप्रथम सीओ ने कमलावरपट्टी पर्वतीया बांध का निरीक्षण किया। जहां जमुनी नदी का जलस्तर खतरे की निशान से निचे पाया गया। तदुपरांत सीओ ने हरिणे गांव जाकर बेलन्योती नदी का भी निरीक्षण किया।

जहां नदी का जलस्तर तो कम दिखा, लेकिन जलनिकासी की गति धीमी होने के कारण गांव में जलजमाव की समस्या बनी हुई थी। इस दौरान सीओ ने बताया कि प्रखंड के मुख्य मार्गो से निकासी कराया गया है। ग्रामीण क्षेत्रों के जलजमाव का मुआयना किया जा रहा है। जल्द सभी गांव को जलजमाव से मुक्त कराया जायेगा।

ADVERTISEMENT

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.