सदर अस्पताल पड़ा बिमार, जलजमाव से बढ़ा खतरा, नहीं हो रही फॉगिग

मधुबनी: मानसून की बारिश ने शहर के साथ-साथ सदर अस्पताल परिसर को भी अपनी चपेट में ले लिया है। मरीजों का इलाज करने वाले सदर अस्पताल में जलजमाव से जलजनित रोगों का खतरा बढ़ गया है। हालांकि, बारिश रूकने से सोमवार को अस्पताल परिसर में जलजमाव में कमी देखी गई, लेकिन स्थिति अब भी संतोषजनक नहीं कही जा सकती। इधर, शहर के अधिकांश इलाकों में जलजमाव ने जलजनित लोगों के अलावा मच्छरों के प्रकोप को काफी बढ़ा दिया है।

सदर अस्पताल परिसर में भी मच्छरों का प्रकोप बढ़ गया है। इस पर काबू पाने के लिए सदर अस्पताल परिसर में फॉगिग मशीन का इस्तेमाल नहीं हो रहा है। इससे अस्पताल में इलाज को पहुंचने वाले मरीजों, उनके स्वजनों व स्वास्थ्य कर्मियों की मुश्किलें बढ़ गई है। वहीं, शहर के कई इलाकों में पिछले कई दिनों से लगातार जलजमाव की स्थिति बने रहेने से जलजनित रोगों के पीड़ितों की संख्या में इजाफा हो रहा है। जलजनित रोगों से संक्रमण के खतरा को देखते हुए लोग अस्पताल जाने से भी कतरा रहे हैं। हालांकि, अस्पताल में जलजनित रोगों से पीड़ित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है।

ADVERTISEMENT

सर्दी, बुखार, चर्मरोग के पीड़ितों की बढ़ रही संख्या

आमतौर पर बारिश के दिनों में सर्दी, बुखार, चर्म रोग की शिकायतें बढ गई है। सर्दी, बुखार, चर्म रोग समेत अन्य जलजनित रोगों से पीड़ित लोग सदर अस्पताल पहुंचकर चिकित्सकों से सलाह ले रहे हैं। अस्पताल में प्रतिदिन 80 से 100 रोगी ओपीडी पहुंच रहे हैं। इन रोगियों में सर्दी, बुखार जैसे संक्रमण की शिकायत होती है। अस्पताल पहुंचे शहर के शंकर चौक निवासी महेश कुमार ने बताया कि अस्पताल में एक-दो दवा मिला है। अस्पताल में भर्ती एक रोगी के स्वजन मोहन मंडल ने बताया कि मच्छर का प्रकोप काफी बढ़ गया है। इससे परेशानी हो रही है।

ADVERTISEMENT

जलजमाव से रहता इंफेक्शन का खतरा : एसीएमओ

सदर अस्पताल के एसीएमओ डॉ. आरके सिंह ने बताया कि जलजमाव से इंफेक्शन का खतरा बना रहता है। आसपास में जमा पानी और उनमें पनप रहे मच्छरों के प्रकोप से बचाव के लिए साफ-सफाई का विशेष ख्याल रखा जाना चाहिए। बासी भोजन, दूषित पानी के सेवन से बचना चाहिए। बारिश के दिनों में उल्टी-दस्त होने, लगातार बुखार आने, ठंड लगकर बुखार आने की शिकायत पर शीघ्र ही स्वास्थ्य केंद्र पहुंच कर इलाज व जांच कराना चाहिए।

ADVERTISEMENT

सोने के समय मच्छरदानी का उपयोग निश्चित रूप से करना चाहिए। बाजार में खुले में रखे वस्तुओं के सेवन से परहेज करना चाहिए। भोजन से पूर्व हाथों की सफाई कर लें। जलजनित रोगों से निजात के लिए लोगों को सजग रहने की जरूरत है। उन्होंने बताया कि सदर अस्पताल परिसर से जलनिकासी के उपाय किए गए हैं। अस्पताल परिसर की साफ-सफाई और स्वच्छता का ख्याल रखा जा रहा है।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.