राष्ट्रीय लोक अदालत में कई मामलों का निष्पादन

तकरीबन 50 लाख से अधिक की वसूली

बेनीपट्टी : अनुमंडल कार्यालय परिसर में स्थित व्यवहार न्यायालय में अपर मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी सुनील कुमार त्रिपाठी की अध्यक्षता में बिहार राज्य विधिक सेवा प्राधिकार पटना के सदस्य सचिव के निर्देश के आलोक में राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकार नई दिल्ली के आदेशानुसार अनुमंडल विधिक सेवा समिति के सचिव सह अपर मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी द्वितीय सुनील कुमार त्रिपाठी व न्यायिक दंडाधिकारी पुष्पम किशोर के देख रेख में राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन किया गया. लोक अदालत का आयोजन कोविड-19 के जारी दिशा निर्देशों के तहत दो पीठों का गठन कर न्यायाधीशों की अध्यक्षता में सुनवाई कर आपसी सौहार्दपूर्ण वातावरण में मामले का निष्पादन किया गया. पहले पीठ में एसीजेएम द्वितीय एसके त्रिपाठी व अधिवक्ता सदस्य अवधेश कुमार राय व दूसरे पीठ में न्यायिक दंडाधिकारी पुष्पम किशोर व अधिवक्ता सदस्य आनंद कुमार पासवान शामिल हुए.

इस दौरान सभी न्यायाधीशों ने बारी बारी से संबोधित कर कहा कि सुलहनिय वादों का निपटारा कर लोगों को सरल, सुलभ, सस्ता व त्वरित न्याय दिलाने के लिये राष्ट्रीय लोग अदालत का आयोजन किया जाता है. वर्ष 1995 में उच्चतम न्यायालय के निर्देशानुसार इस अदालत का गठन किया गया था. न्यायधीशों ने कहा कि विधिक सेवा समिति लोक अदालत को सफल बनाने में बेहद ही सक्रिय व प्रयासरत रही. अदालत में आपराधिक मामले, बैंक, विधुत, दूरसंचार व वन विभाग सहित अन्य विभागों के कुल 92 मामलों का निष्पादन किया गया.

जिसमें 50 लाख 07 हजार 4 सौ 53 रुपये की राजस्व वसूल की गयी. निष्पादन किये गये मामलों में बैंक ऋण से संबंधित कुल 1261 मामले लिये गये थे, जिसमें 71 का निष्पादन कर 49 लाख 43 हजार 453 रुपये और न्यायालयीय मामलों के कुल 70 मामले लिये गये थे, जिसमें 21 मामलों का निष्पादन कर 64 हजार रुपये सहित कुल 92 मामलों से में 50 लाख 07 हजार 453 रुपये का राजस्व वसूल की गयी. वहीं एसीजेएम द्वितीय सुनील कुमार त्रिपाठी, न्यायधीश व पुष्पम किशोर सहित अन्य न्यायाधीशों ने चल रहे लोक अदालत की कार्यवाही का जायजा लिया और निबटारे पर संतोष व्यक्त किया.

बता दें कि इस लोक अदालत में पीएनबी के अधिकांश शाखा क्रमशः बेनीपट्टी, गंगौर, मधवापुर, उमगांव, शिवनगर, बिस्फी और बेलौजा, एसबीआई, बीओआई, सीबीआई और उतर बिहार ग्रामीण बैंक के कई शाखाओं ने भाग लिया. मौके पर विधिक सेवा समिति के मो. सलमान, महेंद्र प्रसाद, राजकुमार सिंह, जितेंद्र कुमार मेहता व दिनेश कुमार पंडित सहित अन्य अधिवक्ता व वादी और प्रतिवादी भी मौजूद थे.

ADVERTISEMENT

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.