प्रखंड राहत सह अनुश्रवण समिति की बैठक में कई मुद्दों पर चर्चा

बेनीपट्टी : प्रखंड सह अंचल कार्यालय परिसर स्थित मेघदूतम सभागार में शनिवार को प्रखंड राहत सह अनुश्रवण समिति की बैठक प्रखंड प्रमुख सोनी देवी की अध्यक्षता में हो-हंगामे और शोर-शराबे के बीच हुई. बैठक में भारी बारिश एवं बाढ़ के कारण उत्पन्न स्थिति की समीक्षा की गयी और परामर्श व बाढ़ राहत कार्य आदि के संचालन पर चर्चा की गयी. बैठक में शामिल कई सदस्यों ने अंचल के कई इलाकों को जलमग्न होने के बावजूद उन इलाकों में बाढ़ आगमन को प्रशासन द्वारा स्वीकार नही किये जाने पर जमकर नाराजगी जाहिर की. साथ आपदा प्रबंधन समिति की बैठक की सूचना व्यापक स्तर पर नही देने को लेकर भी नाराजगी जाहिर की. कहा कई अहम सदस्यों तक इस बैठक की जानकारी तक नही मिल सकी है.

गोपनीय तरीके से आहूत की गयी बैठक में सभी इलाकों की समस्याओं से अवगत होना मुश्किल है और बाढ़ पीडितों की मदद करने के बजाय यह बैठक कर महज खानापूरी की जा रही है. लोगों ने यह भी कहा कि प्रशासन हर बार बाढ़ से निबटने की मुकम्मल तैयारी की घोषणा करती है और बाढ़ आने पर लोग असहाय महसूस करते रहते हैं लेकिन कोई उनका हाल तक जानने को नही पहुंचते. लोगों की खुद से चचरी बनाकर, एक सौ रुपये का भुगतान कर या निजी नाव अथवा वैकल्पिक व्यवस्था से आवागमन चालू करने की विवशता ही बाढ़ पूर्व की मुकम्मल तैयारी रहती है.

प्रखंड क्षेत्र के कई पंचायतों में बाढ़ से स्थिति गंभीर बनी हुई है लेकिन, प्रशासनिक स्तर पर नाव तक उपलब्ध नहीं कराई जा रही है. आखिर बेनीपट्टी अंचल के अधीन की 22 नावें कहां गयी? बाढ़ के साथ ही प्रखंड क्षेत्र में भारी बारिश के कारण काफी तबाही व क्षति हुई है. एक ओर जहां बाढ़ के पानी से अंचल क्षेत्र की कई पंचायतें व गांव घिरा हुआ है, वहीं प्रशासन अब तक बेनीपट्टी में बाढ़ आने की बात मानने के लिये तैयार नहीं है. जो दुर्भाग्यपूर्ण है. प्रशासन बाढ़ का निरीक्षण करना और जायजा लेने की भी जहमत नही उठा रही है. सदस्यों ने एक स्वर से बेनीपट्टी की बाढ़ प्रभावित पंचायतों को बाढ़ग्रस्त क्षेत्र घोषित करने और बाढ़ पीड़ितों को राहत उपलब्ध कराने की मांग की. बैठक में भारी बारिश, बाढ़, कृषि, पशुपालन, शिक्षा, आपूर्ति, शिक्षा आदि की समीक्षा की गयी.

साथ ही विगत 6 वर्षों से प्रखंड के सोइली से गुलरियाटोल तक की सड़क नहीं बनने पर ग्रामीण कार्य विभाग कार्य प्रमंडल बेनीपट्टी के विरुद्ध निंदा प्रस्ताव पारित किया गया और कार्रवाई की मांग की गयी. बैठक में सीओ पल्लवी कुमारी गुप्ता, बीपीआरओ गौतम आनंद, सीडीपीओ अंजना कुमारी, एमओ इंद्रजीत कुमार, डॉ. पीएन झा, अरेर थाने के एसआई रामचंद्र प्रसाद, सीआई प्रमोद मंडल, मुखिया संघ के जिला अध्यक्ष कृपानंद झा आजाद, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता बैधनाथ झा, मुखिया अजित पासवान, भाजपा के प्रो. मदन कुमार कर्ण, पूर्व जिला पार्षद व राजद नेता राजेश यादव, पैक्स अध्यक्ष प्रेमशंकर राय, निवर्तमान मुखिया अशोक कुमार रंजन, मिश्री राम, किरण देवी, गुलाब ठाकुर, मो. अरशद, देवेंद्र यादव, जिला आपदा विभाग के प्रतिनिधि रमण व विजय पासवान सहित अन्य लोग भी मौजूद थे.

ADVERTISEMENT

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.